मेरा गाँव मेरा देश

Tuesday, June 24, 2008

हाईटेक होते चंडीगढ़ के भिखारी

चंडीगढ़/जागरण : सिटी ब्यूटीफुल का नया चेहरा,यहां के भिखारी दिन में भीख मांग कर ही जितने रुपये बना लेते हैं उतने तो एक आम आदमी पूरे दिन कड़ी मेहनत मशक्कत करने के बाद भी नहीं बना पाता है।
सेक्टर 32 में स्थित निर्माण थियेटर के सामने बैठे हुए एक भिखारी से जब इस बारे में बातचीत की गई तो उसने बताया कि वह पिछले तीन सालों यही काम कर रहा है आगे बताते हुए उसने कहा कि इस काम में मेहनत कम और मुनाफा अधिक है इसी बीच उसका मोबाइल बज उठा उसने थोड़ी देर बात कर, बताया कि दिन में वह आराम से 250-300 रुपये कमा लेता है जबकि खाना दिन में तीनों टाइम ढाबे में करता है।
इसके अलावा सेक्टर 43,17,22 की मार्केट और पिकाडली थियेटर के पास मिले इस पेशे से जुडे़ व्यक्तियों के अनुसार ये लोग दिन में कम से कम 200-300 रुपये दिहाड़ी तो बना ही लेते हैं। इसके अलावा इनमें से कइयों के पास तो स्कूटर भी है। इनकी तुलना में अगर आम दिहाड़ीदार को देखा जाऐ तो वह दिन भर कड़ी मेहनत करके मुश्किल से 100-150 रुपये ही कमा पाता है।
चंडीगढ़ में भिखारियों की इतनी कमाई साथ लगते राज्यों में रहने वाले इसी पेशे से जुड़े हुए लोगों को चंडीगढ़ की तरफ आकर्षित कर रही है जिससे दिन-प्रतिदिन यहां भिखारियों की संख्या बढ़ रही है। अगर इस समस्या को खत्म करने के लिए प्रशासन ने शीघ्रता से कोई कदम नहीं उठाया तो धीरे-धीरे सिटी ब्यूटीफुल भिखारियों का अड्डा बन जाएगा।

1 comment:

sanju said...

jo adami mehnat kar sakta hai use bhik dena sabse bada pap hai... to phir aise hitech bhikari paida honge hi na..